Sunday, March 15, 2009

गजल










चाँद शैरी की गजल
मुल्क तूफाने बला की जद में है
दिल सियासत दान का मसनद में है
अब मदारी का तमाशा छोड कर
कल वो आदमी संसद में है
एकता का तो दिलों में है मुकाम
वो कलश में हैं न वो गुम्बद में है
जिंदगी भर खून से सींचा जिसे
वो शजर मेरा निगाहे बद मे है
फिर हैं खतरे मे वतन की आबरू
फिर बड़ी साजिश कोई सरह्द में है
एक जुगनू भी नहीं आता नजर
यह अंधेरा किस बुरे मकसद में हैं
चिलचिलाती धूप में 'शेरी' खयाल
हट के मन्जिल से किसी बरगद में हैं













पुरुषोत्तम 'यकीन' की गजल

न कोई शिकवा न काम रखना
सभी से लेकिन सलाम रखना
किसी को रख लेना अपने दिल में
और उसके दिल में क़याम रखना
अमल को अपने ग़ज़ल में अपनी
मुहब्बतों का पयाम रखना
भरोसा पल का नहीं पे पल का
है लाजमी एहतिमाम रखना
नहीं, न हो,जेरे - आस्माँ घर
दिलों के भीतर मकाम रखना
तुम अपनी यादों की डायरी में
कहीं तो मेरा भी नाम रखना
जफ़ा के बदले वफ़ा मुसलसल
तू रोजो - शब , सुबहो शाम रखना
बहुत ज़माने ने कहर तोड़ा
गया न 'ईमां' न 'राम' रखना
सभी को खुल कर पिला ऐ साकी
किसी का खाली न जाम रखना
'यक़ीन' शैरो - सुखन की जद पर
अदब से दर्दे -अवाम रखना

8 comments:

अनिल कान्त : said...

vaakayi inki gazal ke kya kahne ...bahut hi achchhi

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

नहीं, न हो,जेरे - आस्माँ घर
दिलों के भीतर मकाम रखना

बहुत अच्छी ग़ज़ल। बहुत दिनों में शेरी की ग़ज़ल पढ़ी। वैसे उन से खुद से सुन चुका हूँ।

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा!!


पुरुषोत्तम ’यकीन’ जी की गज़ल पेश करने का आभार.

सुभाष नीरव said...

अब मदारी का तमाशा छोड कर
आज कल वो आदमी संसद में है(चाँद शेरी)

तुम अपनी यादों की डायरी में
कहीं तो मेरा भी नाम रखना(पुरुषोत्तम 'यकीन')

उक्त शे'र पढ़कर सचमुच मुंह से वाह निकली।

दोनों शायरों की ग़ज़लें बहुत अच्छी हैं।

नीरज गोस्वामी said...

बेहद खूबसूरत ग़ज़ल कही है..सारे शेर दमदार हैं...शुक्रिया इस प्रस्तुति का.
नीरज

प्रदीप कांत said...

अब मदारी का तमाशा छोड कर
आज कल वो आदमी संसद में है(चाँद शेरी)

अमल को अपने ग़ज़ल में अपनी
मुहब्बतों का पयाम रखना (पुरुषोत्तम 'यकीन')

यकीनन अच्छी गज़ले.

नरेन्द्र चक्रवर्ती said...

एकता का तो दिलों में है मुकाम
वो कलश में हैं न वो गुम्बद में है

न कोई शिकवा न काम रखना
सभी से लेकिन सलाम रखना

दोनों गज़ले बहुत ही अच्छी है बधाई स्विकरेअ

नरेन्द्र चक्रवर्ती

उमेश महादोषी said...

चाँद शेरी की गज़ल अच्छी है।